कामिनी और दिव्या – अनोखी दास्ताँ (पार्ट 1)


मैंने कृतज्ञता से उस लड़की की तरफ देखा तो मेरी आँखों में आंसू आ गए।
यह उस औरत ने देख लिया और उसने मेरी आँखों के आँसू अपने हाथों से पौंछ दिए।

मैंने उठने की कोशिश की तो मेरे पैरों में दर्द होने लगा और पैर हिल भी नहीं रहा था, उनमें सूजन आ गयी थी और जगह जगह घाव भी हो गए थे।
मैंने उस औरत से पेशाब करने के लिए कहा तो उसने मुझे सहारा देकर उठाया और मुझे पकड़कर उस जगह ले गयी जो उन लोगों ने पेशाब के लिए बनाई थी। मुझसे खड़ा नहीं हुआ जा रहा था तो उस औरत ने मुझे सहारा दिया और मैं अपना लन्ड पेंट से बाहर निकालने लगा.

पेशाब करके जब मैं वापिस लन्ड अंदर डालने तो मेरा बैलेंस बिगड़ गया और मैं गिर गया और वह औरत मुझे संभालने की कोशिश में मेरे ऊपर गिर गयी। मारे दर्द के मेरे मुंह से आह निकल गई। इसी उठापटक में मेरा लन्ड उसके हाथ में आ गया, जब उसे यह अहसास हुआ तो उसने झटके से उसे छोड़ दिया और उठ खड़ी हुई।

आवाज होने की वजह से उसकी बेटी भी वहां आ गयी। जब उसने यह नजारा देखा तो वो वहाँ से भाग गई।
जैसे तैसे हमने एक दूसरे को संभाला और वापिस उसी जगह आ गए जहाँ मैं सोया था।

अब उन्होंने रोशनी कर दी थी झोपड़ी में, तो दोनों को ढंग से देख पा रहा था। उस औरत की उम्र 40 के लगभग थी और बला की खूबसूरत थी बस थोड़ा रंग सांवला था, पेट बिल्कुल स्लिम और परफेक्ट फिगर था किसी का भी लन्ड खड़ा करने के लिए। वहीं लड़की भी ताजा जवान हुई थी, सब अंग कोमलता की मूरत। उसको देखकर मुझे टीवी एक्ट्रेस जेनिफर विंगेट याद आ गयी।
जब मैंने उनके बारे में और पूछना चाहा तो उन्होंने बातें करना बंद कर दिया और सोने की कोशिश करने लगी।

अब कितना भी शरीफ हो चाहे सामने दो दो चूत सोई हो तो किसको नींद आयेगी।
मैंने देखा वह औरत अभी भी जग रही थी, मैंने उसे हाथ लगाकर पूछा कि मेरे पैर में दर्द हो रहा है क्या आप थोड़ा सरसों का तेल देंगी?
तो उसने उठ के तेल दिया, अब मैं लगाने के लिए अपनी पैन्ट निकाल दी, अब मैं सिर्फ अंडरवियर में था।

मैंने मालिश करनी शुरू की तो मुझे परेशानी हो रही थी तो वह औरत झट से खड़ी हुई और तेल अपने हाथ में लेकर मालिश करने लगी। फिर अपने हाथों से मालिश करने लगी। मालिश करते करते उसके हाथ जांघों तक पहुँच गए तो मैंने आंखें बंद कर ली.

More Samuhik chudai kahani – बीवी ने नौकर के मोटे लंड से चुदवाया

उसको लगा शायद मैं सो गया हूँ, तो वह धीरे धीरे हाथ और ऊपर लाई और मेरे लन्ड को टच करने लगी। अचानक वो तेल छोड़कर चड्डी के ऊपर से लन्ड सहलाने लगी। मैं सोने का नाटक करने लगा, मेरा लन्ड खड़ा हो गया, उसने जरा सा ऊपर होकर यह चेक किया कि मैं सो गया या जग रहा हूँ.
जब उसे लगा कि मैं सो गया हूँम तो उसने हल्के से चड्डी नीचे खिसकाई और मेरा लन्ड हाथ में ले लिया, उसके दबाव से मेरे पैर में दर्द हो गया और मैं उठ बैठा।

उसके चेहरे के भाव ही बदल गए, जब मैंने उसकी तरफ देखा तो उसकी आँखों में आंसू आ गए, मैंने दोनों बाहें फैला ली और उसको गले से लगा लिया।
मैंने फिर उसके माथे पे किस किया, दोनों ने एक दूसरे की आंखों में देखा और दोनों के होंठ एक दूसरे से मिल गए, साथ ही मेरे हाथ उसके पेटीकोट को ऊपर उठाने लगे, पूरा ऊपर करने के बाद मेरा हाथ सीधा उसकी गांड के बीच में लगा, मतलब उसने नीचे कुछ नहीं पहना था.

अब उसके हाथ भी मेरे लन्ड को सहलाने लगे, होंठ चूसना छोड़ के वह उठी और यह चेक किया कि उसकी लड़की सो गई या नहीं।
देखने के बाद उसने अपने सारे कपड़े निकाल दिये और नंगी हो गई, फिर उसने मेरी चड्डी भी निकाल दी। मंझी हुई खिलाड़ी की तरह मेरे ऊपर आ गयी और मेरे छाती पर किस करने लगी, मेरे छाती को चूसने लगी.

1 Comment

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two + 3 =